पश्चिमी तटों पर खतरा: भारत में समुद्र का स्तर 2.8 फिट तक बढ़ सकता है

नई दिल्ली| भारत में एक ओर जहां बाढ़ और सुनामी जैसे हालात पैदा होते हैं, वहीं दूसरी ओर कई स्थानों पर लोगों को सूखे का भी सामना करना पड़ रहा है। अब भारत के तटीय क्षेत्रों का खतरा पहले से कहीं अधिक बढ़ गया है। देश में समुद्र के स्तर में वृद्धि पर किए एक अध्ययन से कई बड़े खतरों के बारे में पता चला है।

बाढ़ जैसी बड़ी आपदाओं के कारण लोगों का जीवन खतरे में आ जाएगा। जहां एक तरफ देश में सिंचाई आदि के लिए पानी की मांग बढ़ रही है, वहीं दूसरी ओर इसी साल जारी हुई यूनेस्को की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2050 तक मध्य और दक्षिण भारत भारी मात्रा में पानी का सामना करेगा। बारिश, बाढ़ और सुनामी जैसी आपदाओं के कारण देश में जल स्तर बढ़ेगा। पूर्वी तट पर गंगा, कृष्णा, गोदावरी, कावेरी और महानदी के डेल्टाओं को खतरा पैदा हो सकता है, साथ ही सिंचित भूमि और कई शहरी एवं अन्य बस्तियों को भी खतरा होगा जो वहां स्थित हैं।

Related posts

Leave a Comment