एक पैन नंबर पर 3 शिक्षक कर रहे थे नौकरी…

गोरखपुर| अब शिक्षा विभाग में एक ही पैन नंबर और डाक्यूमेंट के सहारे तीन लोगों के नौकरी करने का मामला सामने आया है। इसमें लखीमपुर के अलावा गोरखपुर के केंद्रीय विद्यालय और बस्ती में एक-एक व्यक्ति सरकारी नौकरी कर रहा है। इनकम टैक्स विभाग ने जब जांच शुरू की तो शिक्षा विभाग में खलबली मच गई।

फंसने के डर से धौरहरा ब्लॉक के उच्च प्राथमिक विद्यालय हरेरामपुरवा में बिपिन कुमार गुप्ता के नाम से कार्यरत शिक्षक लापता हो गया है, जो करीब 10 साल तक इसी पैन कार्ड का प्रयोग करता रहा।

गोरखपुर के खोराबार (सूबाबाजार) निवासी बिपिन कुमार गुप्ता केंद्रीय विद्यालय गोरखपुर में कार्यरत हैं। सितंबर 2018 में उन्हें ऑनलाइन आईटीआर दाखिल करने के दौरान जानकारी हुई कि उनके पैन नंबर पर दो अन्य लोगों (लखीमपुर खीरी और बस्ती) के द्वारा आईटीआर दाखिल किया जा रहा है।

आनन-फानन बिपिन ने इंकम टैक्स कमिश्नर गोरखपुर को प्रार्थना पत्र देकर मामले की जानकारी दी। साथ ही उसने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में अपने खाते के जरिए कराए फिक्स डिपॉजिट का प्रिंट निकलवाया, तो उसमें बिपिन के असली पते की जगह प्राइमरी स्कूल हरेरामपुरवा धौरहरा का पता दर्ज मिला।

इससे बिपिन की परेशानी दोहरी हो गई, तो बैंक अधिकारियों ने बताया कि इसी पैन नंबर पर एसबीआई धौरहरा में खाता खोला गया है, जिसका पता सर्वर ने ले लिया है। इसके बाद बिपिन ने अपने पैन नंबर की और पड़ताल की, तो पता चला कि बस्ती के बेसिक शिक्षा विभाग के वित्त कार्यालय से टीडीएस डिपॉजिट किया जा रहा है।

इसके बाद तो बिपिन के होश फाख्ता हो गए, क्योंकि उनके पैन नंबर पर दो और लोगों का टीडीएस जमा किए जाने से किसी भारी मुसीबत में फंसने का डर सताने लगा। उन्होंने लखीमपुर और बस्ती के डीएम और बीएसए से शिकायत करने के साथ ही मुख्यमंत्री को शिकायत भेजकर धोखाधड़ी के इस मामले की जानकारी दी।

 

Related posts

Leave a Comment